70 के दशक से इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल ICMR की स्टडी के बावजूद दिल्ली में कोविड-19 मरी
当前位置 :| इलेक्ट्रॉनिक डार्ट बोर्ड > 70 के दशक से इलेक्ट्रॉनिक फुटब > 70 के दशक से इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल ICMR की स्टडी के बावजूद दिल्ली में कोविड-19 मरी

70 के दशक से इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल ICMR की स्टडी के बावजूद दिल्ली में कोविड-19 मरी

来源:http://nygade.com 作者:इलेक्ट्रॉनिक डार्ट बोर्ड 时间:2020-09-15 点击: 102
satyendar-jains-treatment with plasma therapy in hindi ICMR की स्टडी के बावजूद दिल्ली में कोविड-19 मरीजों को दी जाएगी प्लाज्मा थेरेपी

हाल ही में आई ICMR की स्टडी में कहा गया कि कोरोनावायरस के खतरे को करने या कोविड-19 से मौत को रोकने के लिए ​प्लाज्मा थेरेपी कारगार नहीं है। स्टडी में कहा गया कि यदि कोई यह सोच रहा है कि प्लाज्म थेरेपी से कोरोना संक्रमित मरीज की जान बचाई जा सकती है, तो ऐसा नहीं है। हालांकि इसके इस्तेमाल से कुछ लक्षण कंट्रोल में आ सकते हैं। इसके बावजूद दिल्ली सरकार राजधानी के मरीजों का इलाज कराने के लिए प्लाज्मा थेरेपी का इस्तेमाल करेगी। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंत्र जैन का कहना है कि कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए दिल्ली सरकार गंभीर मामलों में प्लाज्मा थेरेपी का इस्तेमाल जारी रखेगी। Also Read - लॉकडाउन से 78 हजार लोगों की जान बचाना हुआ मुमकिन, 29 लाख कोविड मामलों से बच सका भारत, को रोकने में मदद मिली : हर्षवर्धन

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री का कहना है कि आईसीएमआर (ICMR) ने यह बिल्कुल नहीं कहा कि प्लाज्मा थेरेपी का कोई लाभ नहीं है70 के दशक से इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल, बल्कि यह कहा है कि यदि किसी मरीज को वेंटिलेटर पर रखा जाता है तो शायद प्लाज्मा थेरेपी से कोई फायदा नहीं होगा। हालांकि70 के दशक से इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल, इससे पहले कि कोई मरीज स्टेज 3 पर पहुंचे70 के दशक से इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल, उसे फायदा होता है। मंत्री का कहना है कि वह खुद इस थेरेपी की मदद से सही हुए हैं। Also Read - बीएचयू के मेडिकल साइंस का दावा70 के दशक से इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल, गंगाजल में मौजूद बैक्टीरिया 'बैक्टीरियोफाज' करेगा कोरोनावायरस का नाश

COVID-19बेचने टूटे खेल मेरे पास शान्ति https://www.thehealthsite.com/wp-content/uploads/2020/09/plasma-therapy-1024x661-1-1-168x91.jpg 168w, https://www.thehealthsite.com/wp-content/uploads/2020/09/plasma-therapy-1024x661-1-1.jpg 675w" sizes="(max-width: 655px) 100vw, 655px" /> Also Read - Covid-19 Live Updates: भारत में कोरोना के मरीजों की संख्या हुई 48,46,427, अब तक 79,722 लोगों की मौत

क्या है ICMR की स्टडी?

द इंडिया काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने हाल ही में जारी एक स्टडी में कहा है कि COVID-19 के लिए प्लाज्मा थेरेपी न तो मृत्यु जोखिम को कम करती है और न ही यह वायरस की गति को रोक सकती है। प्लाज्मा थेरेपी में,70 के दशक से इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल ऐसे व्यक्ति के ब्लड से एंटीबॉडी को लिया जाता है जो कोरोना संक्रमित होने के बाद पूरी तरह से सही हो चुका है और फिर इन्हें कोरोना संक्रमित व्यक्ति के शरीर में डाला जाता है। इससे कोरोना के खिलाफ लड़ने में मदद मिलती है और इम्यून सिस्टम भी बूस्ट होता है। इंडिया काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) द्वारा 464 मध्यम-बीमार रोगियों पर यह शोध किया गया जिन्हें सांस लेने में कठिनाई और ऑक्सीजन सेचुरेशन स्तर 93 प्रतिशत से कम पर परीक्षण किया गया था।

इन लोगों को दो ग्रुप में बांटा गया था, जिसमें 235 लोगों को प्लाज्मा दिया गया जबकि 229 को केवल सामान्य निगरानी में रखा गया। जो लोग प्लाज्मा थेरेपी पर थे उन्हें 200 मिलीलीटर प्लाज्मा की दो खुराक के साथ 24 घंटे के लिए स्थानांतरित किया गया था। फिर दोनों ग्रुप की तुलना 28 दिनों के बाद की गई। कुल 34 रोगियों या 13.6 प्रतिशत लोग जो प्लाज्मा थेरेपी पर थे, वो या तो रिकवर नहीं कर पाएं या उनकी मौत हो गई। जबकि 31 मरीज़ या 14.6 प्रतिशत लोग जो प्लाज्मा के बजाय सामान्य निगरानी पर थे वे मर गए।

Covid-19 TreatmentCOVID-19Covid-19 Treatment

कुछ लक्षणों को मार सकती है प्लाज्मा थेरेपी

अध्ययन में कहा गया है कि हर ग्रुप में 17 रोगियों को गंभीर बीमारी है। इस लिहाज से पता चलता है कि प्लाज्मा थेरेपी का कुछ खास कमाल नहीं है। हालांकि प्लाज्मा थेरेपी से कुछ लाभ जरूर हुआ। जैसे कि मरीजों में सांस की समस्या और थकान में कमी देखी गई। जबकि बुखार और खांसी जैसे लक्षणों में कोई कमी नहीं आई। बता दें कि दिल्ली, ओडिशा, महाराष्ट्र और तमिलनाडु जैसे कई राज्य कोरोनावायरस के प्रकोप से निपटने के लिए प्लाज्मा थेरेपी पर जोर देते आए हैं। दिल्ली में, 700 से अधिक रोगियों को प्लाज्मा थेरेपी दी गई है और दिल्ली सरकार द्वारा व्यापक रूप से इसे प्रचारित भी किया गया।

Published : September 11, 2020 10:30 am Read Disclaimer Comments - Join the Discussion सुशांत के मीडिया कवरेज से क्या लोगों के मन में बढ़ रहा आत्महत्या का विचार? जानें एक्सपर्ट्स की रायसुशांत के मीडिया कवरेज से क्या लोगों के मन में बढ़ रहा आत्महत्या का विचार? जानें एक्सपर्ट्स की राय सुशांत के मीडिया कवरेज से क्या लोगों के मन में बढ़ रहा आत्महत्या का विचार? जानें एक्सपर्ट्स की राय भारत में भी रूका ऑक्सफोर्ड की कोविड वैक्सीन AstraZeneca का क्लिनिकल ट्रायलभारत में भी रूका ऑक्सफोर्ड की कोविड वैक्सीन AstraZeneca का क्लिनिकल ट्रायल भारत में भी रूका ऑक्सफोर्ड की कोविड वैक्सीन AstraZeneca का क्लिनिकल ट्रायल ,,

Tag:क,े,द,श,स,इ,ल,्,ट,र,ॉ,न,ि,फ,ु,

 

最新评论
评论内容:不能超过250字,需审核,请自觉遵守互联网相关政策法规。
用户名: 密码:
匿名?
>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

>> 70 के दशक से इलेक..

  • बजाएँ
  • भारतीय क्रिकेट ऑनलाइन बेटिंग
  • बड़े परदे पोकर हाथ में खेल
  • सर्वश्रेष्ठ इलेक्ट्रॉनिक बास्क
  • ईए खेल सभी खेल